भारत के नंबर 1 सामान्य ज्ञान पोर्टल पर आपका स्वागत है जिसे सैकड़ो किताबों के निचोड़ से बनाया गया है इसके अलावे प्रतिदिन आपको करेंट अफेयर्स,जॉब अलर्ट का सबसे पहले जानकारी देता है और बहुत जल्द ही Bank ,SSC ,Railway & Other Exams का टेस्ट प्रतिदिन आयोजित किया जा रहा है जो बिलकुल फ्री होगा जिससे आप अपने तैयारी की प्रतिशतता जाँच सके |
करेंट अफेयर्स

.

► हाल में ही केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल के बर्द्धमान रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर बंगाल के किस महान क्रांतिकारी के नाम पर रखने का फैसला किया ?

A)रविंद्र नाथ टैगोर

B)बटुकेश्वर दत्त

C)सत्यजीत रे

D)ईश्वरचंद्र विद्यासागर

     उत्तर:-B)बटुकेश्वर दत्त

     महत्वपूर्ण तथ्य

  • हाल में ही केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने पश्चिम बंगाल के बर्द्धमान रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर बंगाल के  महान क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त के नाम पर रखने का फैसला किया.
  • स्वतंत्रता सेनानी बटुकेश्वर दत्त का जन्म पश्चिम बंगाल के वर्धमान जिले में ही हुआ था !
  • बटुकेश्वर दत्त का जन्म 18 नवंबर 1910 को हुआ था.
  • 1924 में कानपुर में इनकी भगत सिंह से भेंट हुई। इसके बाद इन्होंने हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के लिए कानपुर में कार्य करना प्रारंभ किया।
  • जब बटुकेश्वर दत्त, भगत सिंह के साथ केंद्रीय विधान सभा में 8 अप्रैल 1929 बम विस्फोट के बाद गिरफ्तार किए गए,तब से उन्हे स्वतंत्रता सेनानी के रूप में जाने जाना लगा !
  • 12 जून 1929 को इन दोनों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई और लाहौर जेल में रखा गया.
  • बटुकेश्वर दत्त को आजीवन कारावास काटने के लिए काला पानी जेल भेज दिया गया।
  • जेल में ही उन्होंने 1933 और 1937 में ऐतिहासिक भूख हड़ताल की।
  • वर्ष 1945 में बटुकेश्वर दत्त को जेल से रिहा कर दिया गया.
  • आजादी के बाद नवम्बर, 1947 में अंजली दत्त से शादी करने के बाद वे पटना में रहने लगे।
  • बटुकेशवर दत्त की मृत्यु 20 जुलाई 1965 को नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में हुई।

अगला पढ़े:-रातापानी वन्यजीव अभयारण्य बाघ आरक्षित घोषित

Read More >>
.

► हाल में ही मध्य प्रदेश सरकार ने किस वन्यजीव अभयारण्य को बाघ के लिये आरक्षित घोषित करने का निर्णय लिया है?

A)बांधवगढ़

B)पन्ना

C)पेंच

D)रातापानी

     उत्तर:-D)रातापानी वन्यजीव अभयारण्य

     महत्वपूर्ण तथ्य

  • हाल में ही मध्य प्रदेश सरकार ने रातापानी वन्यजीव अभयारण्य (Ratapani Wildlife Sanctuary) को बाघ के लिये आरक्षित बनाने की घोषणा की है.
  • राज्यों द्वारा तैयार किए गए बाघ आरक्षित के लिए आवेदन को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत करने के बाद अभ्यारण्य आरक्षित हो जाता है.
  • रायसेन, सीहोर तथा भोपाल ज़िलों का लगभग 3,500 वर्ग किमी का क्षेत्र बाघों के लिये आरक्षित किया गया है।
  • 1,500 वर्ग किमी. क्षेत्र को कोर क्षेत्र के रूप में जबकि 2,000 वर्ग किमी को बफर ज़ोन के रूप घोषित किया जायेगा.
  • इस क्षेत्र को बाघ अभयारण्य के रूप में घोषित किये जाने से अवैध खनन और अवैध शिकार से बाघों को संरक्षण मिलेगा.

      रातापानी वन्यजीव अभयारण्य

  • रातापानी बाघ अभयारण्य भारत के मध्य प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में स्थित है।
  • यह अभ्यारण्य सुन्दर सागौन (टीक) वनों के लिये प्रसिद्ध है।
  • इसमें बाघ, लियोपार्ड (leopards), जंगली कुत्ते, स्लॉथ बीय, शियार, लोमड़ी, चीतल, सांभर, नीलगाय, चिंकारा, चौसिंघा, हनुमान लंगूर, आदि की प्रमुखता है.
  • भीम वेतका गुफा इसी अभयारण्य के अन्दर है। जिसको यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल में शामिल किया गया है.
  • यह अभ्यारण्य कुल 890 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैला है।
  • वर्तमान में इस अभयारण्य में बाघों की संख्या लगभग लगभग 40 है.
  • इसे वर्ष 1976 में एक वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया !

       राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण

  • राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (NTCA) की स्थापना दिसंबर 2005 में टाइगर टास्क फोर्स की सिफारिश के बाद की गई थी.
  • 1973 में विश्व वन्य कोष के सहयोग से भारत सरकार द्वारा प्रोजेक्ट टाइगर शुरू किया गया था।
  • जिसको वर्ष 2005 में पुनर्गठन करके राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण का गठन किया गया.
  • राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण का मुख्य उदेश्य बाघों का संरक्षण प्रदान करना,उनका आकलन रखना,नए टाइगर रिजेर्वे बनाना है.

अगला पढ़े:-कोलिस्टिन एंटीबायोटिक भारत में प्रतिबंध

Read More >>
.

► हाल में ही स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने किस एंटीबायोटिक के निर्माण, बिक्री एवं वितरण को पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया है?

A)कोलिस्टिन

B)एमोक्सिसिलिन

C)ब्रोंकाइटिस

D)एज़िथ्रोमाइसिन

     उत्तर:-A)कोलिस्टिन

     महत्वपूर्ण तथ्य

  • हाल ही में भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (Ministry of Health and Family Welfare) ने कोलिस्टिन (Colistin) नामक एंटीबायोटिक के निर्माण, बिक्री एवं वितरण को पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया है।
  • यह प्रतिबंध ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 के प्रावधानों के तहत लगाया गया है।
  • इस कोलिस्टिन एंटीबायोटिक दवा के प्रतिबंध के लिए दवा तकनीकी सलाहकार बोर्ड ने सिफारिश किया था !
  • कोलिस्टीन (Colistin) एक एंटीबायोटिक है जो जीवाणुओं के विकास को रोककर बैक्टीरियल संक्रमण का इलाज करता है।
  • इस एंटीबायोटिक के कई साइड इफेक्ट है जिसमे स्तब्ध हो जाना हाथ और पैर की, भ्रम, कठिनाई घूमना, मनोविकृति , अस्थिरता, अस्पष्टीकृत बुखार , दौरे , परेशान श्वास, मांसपेशियों में कमजोरी , चक्कर आना आदि शामिल है.
  • भारत में लगभग 95% कोलिस्टिन का आयात चीन से किया जाता है।
  • वर्तमान में कोलिस्टिन भारत,जापान,एवं अमेरिका में ही स्वीकृत थे लेकिन अब भारत में भी प्रतिबंध हो चूका है !
  • चीन,जो कोलिस्टिन का सबसे बड़ा उत्पादक देश है वहां पहले से ही इस पर प्रतिबंध लगा हुआ है !

अगला पढ़े:-नाग प्रक्षेपात्र के तीसरी पीढ़ी का सफल परिक्षण

Read More >>

Latest Job Uptodate